Home > Blog

1962 की पूरी कहानी, जब मेजर शैतान सिंह और 13 कुमाऊं की चार्ली कंपनी के 120 जवानों ने मार गिराए थे 1400 चीनी सैनिक..

सबसे ज्यादा प्रेरणादायक कहानियां सबसे कठिन संघर्ष से निकलती है। वीरता की जो गाथा हम आपको सुनाने जा रहे हैं वो हिंदुस्तान में ही नहीं बल्कि पूरे विश्व के लिए एक मिसाल है।1962 में भारत की हार के किस्से आपने सुने होंगे, लेकिन उस हार …

देवभूमी उत्तराखंड की एक ऐसी जगह जहां मुर्दे भी जिन्दा हो जाते हैं

यमुना नदी के किनारे बसा लाखामंडल गांव देहरादून जिले के जौनसार बावर इलाके में पड़ता है। यह गांव ऐतिहासिक और पौराणिक दोनों दृष्टि से बहुत ही विशेष महत्व रखता है.मृत्यु के बाद किसी भी व्यक्ति का वापस लौट कर आना संभव नहीं है, लेकिन इसके उलट लाखामंडल में कुछ अविश्वसनीय चीजें होती हैं। Lakhamandal Dehradun Uttarakhand

उत्तराखंड की बर्फ से ढकी ये वादियां पर्यटकों को दे रही है बुलावा, देखिए इन तस्वीरों में..

बुधवार (12 दिसम्बर) को मसूरी,धनोल्टी और चकराता में सीजन की पहली बर्फबारी हुई. चार धामों ने भी सफेद बर्फ की चादर ओढ़ी कुमाऊ के मुनस्यारी, मुक्तेश्वर और नैनीताल में भी लोगों ने बर्फबारी का जमकर आनंद लिया अब यातायात नियमों का उल्लंघन करना पड़ेगा महंगा, …

​क्या आप जानते हैं भारत सरकार सिक्कों का आकार छोटा क्यों करती जा रही है ?

दरअसल किसी भी सिक्के की दो वैल्यू होतीं हैं जिनमे एक को कहा जाता है सिक्के की ‘फेस वैल्यू’ और दूसरी वैल्यू होती है उसकी ‘मेटलिक वैल्यू ‘.सिक्के की फेस वैल्यू इस वैल्यू से मतलब उस सिक्के पर जितने रुपये लिखा होता है, वही उसकी …

​व्हाट्सएप के इस फीचर से लोग होने वाले हैं परेशान, सर्वे में आए चौंकाने वाले आंकड़े सामने

मैसेंजर की दुनिया का राजा कहे जाने वाला व्हाट्सएप अब कुछ ऐसा करने जा रहा है जिससे आप लोगों को खासी दिक्कत  हो सकती है.अक्सर जो चीज आपको एप को इस्तेमाल करते हुए सबसे ज्यादा गुस्सैल बनाती है वह होते हैं एड या विज्ञापन .जी …

​उत्तराखंड के 2 वीर सपूत फिर हुए शहीद

खून कहो किस मतलब का, जिसमें उबाल का नाम नहीं ? वह खून कहो किस मतलब का, आ सके देश के काम नहीं ? शायद कुछ यही पंक्तियां होती है जो हमारे देश के नौजवानों को प्रेरणा देती है कि उसे अपनी मातृभूमि को बचाने …