Home International News SpaceX Starlink: दुनिया के हर कोने में मिलेगा सबसे सस्ता और तेज...

SpaceX Starlink: दुनिया के हर कोने में मिलेगा सबसे सस्ता और तेज इंटरनेट, सीधे अंतरिक्ष से मिलेगी ये सुविधा

-

SpaceX कंपनी सस्ते ब्रॉडबैंड इंटरनेट प्रदान करने के लिए एक महत्वपूर्ण कदम उठाने जा रही है। स्पेसएक्स अपने 60 सेटेलाइट को लॉन्च(Launch) करने जा रही है जो पृथ्वी की निम्न-कक्षा में स्थापित किये जायेंगे। SpaceX यदि यह सेटेलाइट स्थापित करने में सक्षम रहता है तो वास्तव में यह सस्ते इंटरनेट प्रदान करने की ओर एक बड़ा कदम होगा। SpaceX के इस लॉन्चिंग के बाद आम इंटरनेट उपभोक्ताओं के जीवन मे बहुत बड़ा बदलाव होने की उम्मीद है।

SpaceX Starlink की लॉन्चिंग-

एलोन मस्क(Elon Musk) की रॉकेट कंपनी SpaceX अपने 60 उपग्रहों को एक साथ पृथ्वी की निम्न कक्षा में पहुंचाने की कोशिश करेगी, जिसे स्पेसएक्स स्टारलिंक नाम दिया गया है। फ्लोरिडा के केप कैनावेरल से गुरुवार की शाम SpaceX Starlink को लॉन्च करने की तैयारी है। स्पेसएक्स की यह बहुत बड़ी परियोजना है जिसके एक छोटे से हिस्से को लॉन्च किया जा रहा है। कंपनी का कहना है कि इस प्रकार के हजारों सेटेलाइट की मौजूदगी से दुनिया को सस्ता इंटरनेट उपलब्ध कराया जा सकता है।

यदि SpaceX की लॉन्चिंग गुरुवार को सफल रहती है, तो किसी भी कंपनी के लिए इस तरह की परियोजना प्रयास करने के लिए अभी तक का सबसे बड़ा परीक्षण होगा। यह Amazon और OneWeb, जिसको Softbank ने प्रायोजित किया है, जैसी कंपनियों के लिए बहुत बड़ी चुनौती होगी जो अपने स्वयं के इंटरनेट उपग्रह समूह बनाना चाहते हैं।

यह भी पढ़ें- जब ‘जनरल बकरा’ ने बचाई थी गढ़वाल राइफल्स के जवानों की जान, जानिए कहानी ‘जनरल बकरा बैजू’ की…

SpaceX के CEO का क्या कहना है-

मस्क के अनुसार, SpaceX को इस प्रकार के छः मिशनों की आवश्यकता होगी, जो दुनिया भर में लगातार इंटरनेट कवरेज प्रदान कर सके। उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया की आबादी के महत्वपूर्ण हिस्से तक कवरेज प्रदान करने के लिए कंपनी इस प्रकार के 12 लॉन्च कर सकती है।

इस प्रकार की परियोजनाओं को पूरा करने के लिए अरबों डॉलर की लागत लगती है, जो इस तरह के प्रयासों के लिए बहुत मुश्किल होता है। इंटरनेट को ज्यादातर वायरलेस टावरों या केबलों के माध्यम से उपभोक्ताओं तक पहुंचाया जाता है, जो बेहद ग्रामीण या गरीब समुदाय के लिए महंगा साबित होता है। सभी उपग्रह आधारित इंटरनेट सेवा के साथ सबसे बड़ी समस्या यह है कि यह आम उपभोक्ताओं के लिए बहुत महंगा पड़ता है। लेकिन अत्यधिक उपग्रह होने के बाद यह बेहद सस्ता हो जाएगा।

VIRAL BEAR VIDEO: कश्मीर में पत्थर मार-मार कर लोगों ने ‘भालू’ को पहाड़ी से नीचे नदी में गिराया

Viral Video: व्हेल मछली ने वापस किया महिला का समुद्र में गिरा iPhone, देखें वीडियो

Like-We-uttarakhand-logo.jpg