Home National News LEOPARD ATTACK : गांव में घुस आया था तेंदुआ 6 लोगों पर...

LEOPARD ATTACK : गांव में घुस आया था तेंदुआ 6 लोगों पर किया हमला

-

Leopard Attack: दरअसल आजकल एक वीडियो इंटरनेट पर वायरल हो रहा है जिसमें की एक तेंदुआ एक गांव में घुस आया है और लोग उसे भगाने की कोशिश कर रहे हैं, इसी भगाने की जद्दोजहद में उस तेंदुए (Leopard) ने कई लोगों पर हमला कर दिया। लगभग 11 घंटे की मशक्कत के बाद तेंदुए को पकड़ा गया और वन विभाग द्वारा उसे नजदीकी चिड़ियाघर में भेजा गया।

इंडियन एक्सप्रेस(Indian Express) के अनुसार, स्थानीय वन्यजीव विभाग द्वारा उत्तरी भारतीय शहर जालंधर(Jalandhar, Punjab) में एक तेंदुए को पकड़ लिया गया था। जिन लोगों पर हमला हुआ था, वो सभी लोग ठीक है।

गांव में तेंदुए की मौजूदगी से सारे गांव वाले दहशत में थे दरअसल घटना फरवरी माह की है जब होशियारपुर के पास घनी आबादी वाले गांव में तेंदुआ भटक गया। इस अकेली बड़ी बिल्ली ने छह लोगों पर हमला किया और बचाव दल को बिल्ली और चूहे के खेल में फंसाए रखा। वन्यजीव विभाग की एक 12-सदस्यीय टीम ने अंत में 11 घंटे के संघर्ष के बाद रात 11 बजे इसे पकड़ा और चिकित्सा पर्यवेक्षण के तहत चंडीगढ़ के छतबीर चिड़ियाघर में भेज दिया था।

Watch: हरिद्वार में गंगा किनारे युगल कर रहे थे शराब और मांस सेवन, लोगों ने सिखाया सबक

Watch: हिमाचल में खुद को SDM बताने वाले शख्स ने की HRTC के ड्राइवर से सरेआम मारपीट

वीडियो फुटेज में दो लोगों को तेंदुए पर जाल फेंकते हुए दिखाया गया है, जो एक घर में छुपा हुआ था। लेकिन तेंदुआ जाल से निकल जाता है और फिर छलांग लगाता है, एक आदमी को जमीन पर गिराता है, एक बाड़ को फांदते हुए बाहर निकलता है और उसके आसपास उसे जो भी लोग दिखते हैं वह उन पर हमला कर देता है। भयभीत दर्शकों को दृश्य से भागते हुए देखा जा सकता है।

द ट्रिब्यून(The Tribune) के अनुसार, स्थानीय लोगों ने कथित तौर पर तेंदुए पर पत्थर फेंके, जिसे ट्रेंकुलाइज़र के साथ कई बार गोली मारनी पड़ी, जिसे आखिरकार स्थानीय अधिकारियों ने पकड़ लिया।

WATCH LEOPARD ATTACK VIDEO :

वनों के प्रमुख मुख्य संरक्षक कुलदीप कुमार ने The Tribune को बताया कि तेंदुआ शहर के आसपास की नदियों में अपने सामान्य निवास स्थान से जालंधर के इस गाँव में भटक गया था ।

यह हाल के महीनों में मानव आबादी के साथ संघर्ष में आने वाली भारत में बड़ी बिल्लियों का एकमात्र उदाहरण नहीं है। नवंबर में, पश्चिम-मध्य भारतीय राज्य महाराष्ट्र में एक बाघ को गोली मरने से पहले उसने 13 लोगों की जान ली, जिससे राजनेताओं और पशु अधिकार कार्यकर्ताओं की तीखी आलोचना हुई थी ।

Like-We-uttarakhand-logo.jpg