Home Cricket News Virat Kohli : विराट कोहली के ऊपर गुरुग्राम नगर निगम ने लगाया...

Virat Kohli : विराट कोहली के ऊपर गुरुग्राम नगर निगम ने लगाया जुर्माना, पीने के पानी से धुल रही थी कारें..

-

GURUGRAM : विराट कोहली ( Virat Kohli ) वर्तमान में चल रहे आईसीसी क्रिकेट विश्व कप 2019 के लिए इंग्लैंड में व्यस्त हैं। लेकिन जब वह टूर्नामेंट की तैयारी कर रहे थे, तो उन्हें गुरुग्राम नगर निगम के साथ हाल ही में कुछ परेशानी का सामना करना पड़ा। गुरुग्राम के डीएलएफ फेज 1 में रहने वाले भारतीय कप्तान के ऊपर उनकी कार धोने के लिए पीने का पानी बर्बाद करने पर मात्र 500 रुपये का जुर्माना लगाया गया।

रिपोर्ट के अनुसार कोहली के ड्राइवर और कर्मचारी सुबह के समय उनकी कार को धोने में पीने के पानी का इस्तेमाल कर रहे थे, लेकिन इससे भी बड़ी हैरानी की बात यह है कि नगर निगम के अधिकारियों ने पीने का पानी बर्बाद करने पर मात्र 500 रुपये का जुर्माना लगाया।

Related Posts


Bus Radiator Bursts : बस का रेडिएटर फटा, एक बच्चे समेत छह यात्री झुलसे…

खिलौने बेचने वाले मोदी फैन को लोगों ने बनाया सेल्समैन ऑफ द ईयर, देखें वायरल वीडियो

‘थल की बाजार’ गाने को देखने वालों की संख्या एक करोड़ के पार


नगर निगम के अधिकारी मौके पर घटनास्थल पर पहुंचे और कोहली के ड्राइवर और कर्मचारियों द्वारा कारों को धोने और पानी को बर्बाद करते समय पकड़ा और 500 रुपये का जुर्माना लगाया।

VIRAT KOHLI : कारों को धोने में लगभग 1000 लीटर पीने का पानी बर्बाद

कुछ रिपोर्ट्स के अनुसार, पिछले दिनों कोहली के आवास में पीने के पानी की बर्बादी की शिकायतें भी की गई थीं। पड़ोसियों के अनुसार, कर्मचारियों द्वारा उनकी 6 कारों को धोने में लगभग 1000 लीटर पीने का पानी बर्बाद होता है, जिसमें उनकी 2 एसयूवी भी शामिल हैं। कोहली के साथ, इलाके के 10 अन्य घरों में भी पानी की बर्बादी के लिए जुर्माना लगाया गया।

गुरुग्राम के नगर निगम के आयुक्त यशपाल यादव के अनुसार, बढ़ती गर्मी के कारण शहर के सभी क्षेत्रों में पीने के पानी की अत्यधिक माँग है। नगर निगम इस बात की जाँच कर रहा था कि पीने का पानी कौन बर्बाद कर रहा है। उन्होंने लोगों को पानी बर्बाद न करने का आग्रह करते हुए एक अभियान शुरू किया। जब नगर निगम के दस्ते ने कोहली आवासीय क्षेत्र की जाँच की, तो उन्होंने पाया कि बहुत से लोग अपनी कार धोने के लिए पीने के पानी का उपयोग कर रहे थे। इसलिए उन पर 500 रुपये का जुर्माना लगाया गया।

यह वास्तव में सोचने योग्य बात है कि जिस देश में बारिश के बजाय सूखे के बादल मंडराते हों, वहीं विशेषाधिकार प्राप्त लोग उनके लिए आसानी से उपलब्ध सुविधाओं का दुरुपयोग कर रहे हैं। देश के कई छेत्रों में लोग आज भी रोज़ाना पानी के लिए संघर्ष कर कई किलोमीटर से पानी भर कर लाया करते हैं। यह वाकई बहुत शर्म की बात है कि शुद्ध पानी से लक्जरी कारों को धोने में बर्बाद किया जा रहा है।

Loading...