Home National News टोल कर्मचारी को कार ने 6 किलोमीटर तक घसीटा, घटना सीसीटीवी पर...

टोल कर्मचारी को कार ने 6 किलोमीटर तक घसीटा, घटना सीसीटीवी पर हुई कैद..देखें

-

एक चौंकाने वाली घटना सामने आई है जहां शनिवार को हरियाणा जिले के गुरुग्राम में टोल भुगतान करने के लिए एक टोल प्लाजा कर्मचारी को एक कार चालक द्वारा बोनट पर कई किलोमीटर तक घसीटा गया और बाद में मार-पीट की गई।

चालक ने कार को 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ाकर कर्मचारी को लगभग छह किलोमीटर तक वाहन के बोनट पर लटका हुआ घसीटा।

घटना खेरकी दौला के टोल प्लाजा में हुई जब कार को रुकने और भुगतान करने के लिए कहा गया लेकिन चालक ने वाहन को तेजी से आगे बढ़ाने लगा। वह टोल बैरियर के पास गया और कर्मचारी के बूथ से बाहर आने पर भी नहीं रुका। कर्मचारी ने कार को रोकने की कोशिश की तो चालक ने टोल कर्मचारी को कार के बोनट पर लटका कर अपने साथ घसीटता चला गया और गुरुग्राम-मानेसर राजमार्ग पर फेंक दिया।

यह भी पढ़ें -बीजेपी का बड़ा वादा – 1 रुपये में मिलेगा पांच किलो चावल, 500 ग्राम दाल और नमक.. पढिये

यह भी पढ़ें – पुणे के एक शख्स ने अपनी बहन को 30 लाख रुपये की बीमा राशि के लिए मार डाला

समाचार एजेंसी एएनआई द्वारा बताए गए टोल का भुगतान करने से इनकार करने के बाद, कार चालक ने कर्मचारी अरुण कुमार से कहा, “आप मेरी कार रोक देंगे? यहां तक कि पुलिस ने भी मेरी कार नहीं रोकी।”

कुमार ने कहा कि जब एक व्यक्ति इनोवा कार लेकर टोल बैरियर से टकराया और वहां से भागने लगा तब एक कार को रोकने की कोशिश करने के बाद उन्हें घसीटा गया। पूरी घटना बूथ पर लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई।

यह भी पढ़ें – धोनी पर लगना चाहिए था बैन, जुर्माना लगाकर छोड़ना काफी नहीं: वीरेंद्र सहवाग

हमला सीसीटीवी में कैद

कुमार ने एएनआई को बताया, “वे मुझे घसीट कर एक जगह ले गए, जहां उन्होंने मेरे साथ मारपीट की, मुझे अगवा करने की कोशिश की, लेकिन किसी तरह मैं बच निकलने में सफल रहा।”

उन्होंने कहा, “कार हरिनगर के रहने वाले व्यक्ति के नाम पर पंजीकृत है, जिसमे दो व्यक्ति सवार थे यह हमला सीसीटीवी पर कैद हो गया था जिसके बाद टोल अधिकारियों ने पुलिस को इस घटना की शिकायत की।”

पुलिस ने कहा कि भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है। एएनआई से बात करते हुए टोल प्लाजा के प्रवक्ता कृपाल सिंह ने कहा, “कई कारें सड़क पर गुजर रही थीं और कई लोग इस घटना के गवाह बने लेकिन कोई भी अरुण की मदद के लिए आगे नहीं आया।”

यह भी पढ़ें – जब ‘जनरल बकरा’ ने बचाई थी गढ़वाल राइफल्स के जवानों की जान, जानिए कहानी ‘जनरल बकरा बैजू’ की…

यह भी पढ़ें – गाय को कंधे पर उठा मीलों चलकर पहाड़ के युवक ने बचाई जान, देखिए इन तस्वीरों

Like-We-uttarakhand-logo.jpg